Chakra-Market.com

Durga Chalisa in Hindi, English, Tamil, Gujarati

Durga Chalisa in Hindi

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥निरंकार है ज्योति तुम्हारी।तिहूं लोक फैली उजियारी॥
शशि ललाट मुख महाविशाला।नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥
रूप मातु को अधिक सुहावे।दरश करत जन अति सुख पावे॥
तुम संसार शक्ति लै कीना।पालन हेतु अन्न धन दीना॥अन्नपूर्णा हुई जग पाला।तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी।तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥
शिव योगी तुम्हरे गुण गावें।ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥
रूप सरस्वती को तुम धारा।दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा॥धरयो रूप नरसिंह को अम्बा।परगट भई फाड़कर खम्बा॥
रक्षा करि प्रह्लाद बचायो।हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥
लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं।श्री नारायण अंग समाहीं॥
क्षीरसिन्धु में करत विलासा।दयासिन्धु दीजै मन आसा॥हिंगलाज में तुम्हीं भवानी।महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता।भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥
श्री भैरव तारा जग तारिणी।छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥
केहरि वाहन सोह भवानी।लांगुर वीर चलत अगवानी॥कर में खप्पर खड्ग विराजै।जाको देख काल डर भाजै॥
सोहै अस्त्र और त्रिशूला।जाते उठत शत्रु हिय शूला॥
नगरकोट में तुम्हीं विराजत।तिहुंलोक में डंका बाजत॥
शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे।रक्तबीज शंखन संहारे॥महिषासुर नृप अति अभिमानी।जेहि अघ भार मही अकुलानी॥
रूप कराल कालिका धारा।सेन सहित तुम तिहि संहारा॥
परी गाढ़ संतन पर जब जब।भई सहाय मातु तुम तब तब॥
अमरपुरी अरु बासव लोका।तब महिमा सब रहें अशोका॥ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी।तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावें।दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥
ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई।जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥
जोगी सुर मुनि कहत पुकारी।योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥शंकर आचारज तप कीनो।काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को।काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥
शक्ति रूप का मरम न पायो।शक्ति गई तब मन पछितायो॥
शरणागत हुई कीर्ति बखानी।जय जय जय जगदम्ब भवानी॥भई प्रसन्न आदि जगदम्बा।दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥
मोको मातु कष्ट अति घेरो।तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥
आशा तृष्णा निपट सतावें।रिपू मुरख मौही डरपावे॥
शत्रु नाश कीजै महारानी।सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥करो कृपा हे मातु दयाला।ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला।
जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥
दुर्गा चालीसा जो कोई गावै।सब सुख भोग परमपद पावै॥
देवीदास शरण निज जानी।करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥॥ इति श्री दुर्गा चालीसा सम्पूर्ण ॥

Durga Chalisa In English

Namo namo durge sukh karani |

Namo namo durge dukh harini |1|

Nirankar hai jyoti tumahari |

Tihun lok faili ujiyari |2|

Shashi lalaat mukh mahavishala |

Netra laal bhrikuti vikaralaa |3|

Roop maatu ko adhik suhave |

Darash karat jan ati sukh pave |4|

Tum sansaar shakti  lai kina |

Paalan hetu anna dhan dina |5|

Annpurna huyi jag pala |

Tum hi aadi sundari bala |6|

Pralaykaal sab nashan hari |

Tum gauri shivshankar pyari |7|

Shiv yogi tumhare gun gaaven |

Brahma Vishnu tumhen nit dhyaven |8|

Roop saraswati ko tum dhara |

De subudhi rishi munin ubara |9|

Dharyo roop narsingh ko amba |

Pargat bhai fadkar khamba |10|

Raksha kari prahlaad bachayo |

Hiranyaksh ko swarg pathayo |11|

Lakshmi roop dharo jag mahin |

Shri narayan ang samahin |12|

Kshirsindhu me karat vilasa |

Dyasindhu dijai man aasa |13|

Hinglaaj mein tumhin bhavani |

Mahima amit na jaat bakhani |14|

Matangi aru dhoomavati mata |

Bhuvneshwari bagalaa sukh data |15|

Shri bhairav tara jag tarini |

Chhinn bhaal bhav dukh nivaarini |16|

Kehari vahan soh bhavani |

Langur veer chalat agavaani |17|

Kar me khappar khadag virajai |

Jako dekh kaal dar bhajai |18|

Sohai astra aur trishulaa |

Jaate uthat shatru hiya shoola |19|

Nagarkot me tumhin virajat |

Tihunlok me danka baajat |20|

Shumbh nishumbh danav tum maare |

Raktbeej shankhan sanhare |21|

Mahishasur nrip ati abhimaani |

Jehi agh bhar mahi akulaani |22|

Roop karaal kalika dhara |

Sen sahit tum tihi sanhara |23|

Pari gaadh santan par jab jab |

Bhai sahaay maatu tum tab tab |24|

Amarpuri aru baasav lokaa|

Tab mahima sab rahen ashoka |25|

Jwalaa mein hai jyoti tumhari |

Tumhe sada punje nar-nari |26|

Prem bhakti se joy ash gaaven |

Dukh daaridra nikat nahin aaven |27|

Dhyave tumhen jo nar man laai |

Janm-maran takau chhuti jaai |28|

Jogi sur muni kahat pukari |

Yog n ho bin shakti tumhari |29|

Shankar acharaj tap kino |

Kaam aru krodh jiti sab lino |30|

Nishidin dhyan dharo Shankar ko |

Kaahu kaal nahin sumiro tumko |31|

Shakti roop ka maram n payo |

Shakti gayi tab man pachhitayo |32|

Sharanagat hui kirti bakhani |

Jay jay jay jagdamb bhavani |33|

Bhayi prasann aadi jagdamba |

Dayi shakti nahin kin vilamba |34|

Moko matu kasht ati ghero |

Tum bin kaun harai dukh mero |35|

Aasha trishnaa nipat sataaven |

Ripu murakh mauhi darpaven |36|

Shatru naash kijai maharani |

Sumiraun ikachit tumhen bhavani |37|

Karo kripa he maatu dyaala |

Riddhi-siddhi dai karahu nihala |38|

Jab lagi jiyun daya fal paaun |

Tumharo yash main sada sunaaun |39|

Durga chalisa jo koi gaavai |

Sab sukh bhog parampad paavai |40|

|| Doha ||

Devidaas sharan nij jaani |

Karahu kripa jagdamb bhavani ||

|| iti shri durga chalisa sampurn ||

Durga Chalisa In Tamil

நமோ நமோ து³ர்கே³ ஸுக² கரனீ |
நமோ நமோ அம்பே³ து³꞉க² ஹரனீ || 1 ||

நிரங்கார ஹை ஜ்யோதி தும்ஹாரீ |
திஹூம்ˮ லோக பை²லீ உஜியாரீ || 2 ||

ஶஶி லலாட முக² மஹாவிஶாலா |
நேத்ர லால ப்⁴ருகுடி விகராலா || 3 ||

ரூப மாது கோ அதி⁴க ஸுஹாவே |
த³ரஶ கரத ஜன அதி ஸுக² பாவே || 4 ||

தும ஸம்ஸார ஶக்தி லய கீனா |
பாலன ஹேது அன்ன த⁴ன தீ³னா || 5 ||

அன்னபூர்ணா ஹுயி ஜக³ பாலா |
தும ஹீ ஆதி³ ஸுந்த³ரீ பா³லா || 6 ||

ப்ரலயகால ஸப³ நாஶன ஹாரீ |
தும கௌ³ரீ ஶிவ ஶங்கர ப்யாரீ || 7 ||

ஶிவ யோகீ³ தும்ஹரே கு³ண கா³வேம் |
ப்³ரஹ்மா விஷ்ணு தும்ஹேம் நித த்⁴யாவேம் || 8 ||

ரூப ஸரஸ்வதீ கா தும தா⁴ரா |
தே³ ஸுபு³த்³தி⁴ ருஷி முனின உபா³ரா || 9 ||

த⁴ரா ரூப நரஸிம்ஹ கோ அம்பா³ |
பரக³ட ப⁴யி பா²ட³ கே க²ம்பா³ || 10 ||

ரக்ஷா கர ப்ரஹ்லாத³ ப³சாயோ |
ஹிரண்யாக்ஷ கோ ஸ்வர்க³ படா²யோ || 11 ||

லக்ஷ்மீ ரூப த⁴ரோ ஜக³ மாஹீம் |
ஶ்ரீ நாராயண அங்க³ ஸமாஹீம் || 12 ||

க்ஷீரஸிந்து⁴ மேம் கரத விலாஸா |
த³யாஸிந்து⁴ தீ³ஜை மன ஆஸா || 13 ||

ஹிங்க³லாஜ மேம் தும்ஹீம் ப⁴வானீ |
மஹிமா அமித ந ஜாத ப³கா²னீ || 14 ||

மாதங்கீ³ தூ⁴மாவதி மாதா |
பு⁴வனேஶ்வரீ ப³க³லா ஸுக²தா³தா || 15 ||

ஶ்ரீ பை⁴ரவ தாரா ஜக³ தாரிணீ |
சி²ன்ன பா⁴ல ப⁴வ து³꞉க² நிவாரிணீ || 16 ||

கேஹரி வாஹன ஸோஹ ப⁴வானீ |
லாங்கு³ர வீர சலத அக³வானீ || 17 ||

கர மேம் க²ப்பர க²ட³க³ விராஜே |
ஜாகோ தே³க² கால ட³ர பா⁴ஜே || 18 ||

தோஹே கர மேம் அஸ்த்ர த்ரிஶூலா |
ஜாதே உட²த ஶத்ரு ஹிய ஶூலா || 19 ||

நக³ரகோடி மேம் தும்ஹீம் விராஜத |
திஹும்ˮ லோக மேம் ட³ங்கா பா³ஜத || 20 ||

ஶும்ப⁴ நிஶும்ப⁴ தா³னவ தும மாரே |
ரக்தபீ³ஜ ஶங்க²ன ஸம்ஹாரே || 21 ||

மஹிஷாஸுர ந்ருப அதி அபி⁴மானீ |
ஜேஹி அக⁴ பா⁴ர மஹீ அகுலானீ || 22 ||

ரூப கரால காலிகா தா⁴ரா |
ஸேன ஸஹித தும திஹி ஸம்ஹாரா || 23 ||

படீ³ பீ⁴ட⁴ ஸந்தன பர ஜப³ ஜப³ |
ப⁴யி ஸஹாய மாது தும தப³ தப³ || 24 ||

அமரபுரீ அரு பா³ஸவ லோகா |
தப³ மஹிமா ஸப³ கஹேம் அஶோகா || 25 ||

ஜ்வாலா மேம் ஹை ஜ்யோதி தும்ஹாரீ |
தும்ஹேம் ஸதா³ பூஜேம் நர நாரீ || 26 ||

ப்ரேம ப⁴க்தி ஸே ஜோ யஶ கா³வேம் |
து³꞉க² தா³ரித்³ர நிகட நஹிம் ஆவேம் || 27 ||

த்⁴யாவே தும்ஹேம் ஜோ நர மன லாயி |
ஜன்ம மரண தே ஸௌம் சு²ட ஜாயி || 28 ||

ஜோகீ³ ஸுர முனி கஹத புகாரீ |
யோக³ ந ஹோயி பி³ன ஶக்தி தும்ஹாரீ || 29 ||

ஶங்கர ஆசாரஜ தப கீனோ |
காம அரு க்ரோத⁴ ஜீத ஸப³ லீனோ || 30 ||

நிஶிதி³ன த்⁴யான த⁴ரோ ஶங்கர கோ |
காஹு கால நஹிம் ஸுமிரோ துமகோ || 31 ||

ஶக்தி ரூப கோ மரம ந பாயோ |
ஶக்தி க³யீ தப³ மன பச²தாயோ || 32 ||

ஶரணாக³த ஹுயி கீர்தி ப³கா²னீ |
ஜய ஜய ஜய ஜக³த³ம்ப³ ப⁴வானீ || 33 ||

ப⁴யி ப்ரஸன்ன ஆதி³ ஜக³த³ம்பா³ |
த³யி ஶக்தி நஹிம் கீன விலம்பா³ || 34 ||

மோகோ மாது கஷ்ட அதி கே⁴ரோ |
தும பி³ன கௌன ஹரை து³꞉க² மேரோ || 35 ||

ஆஶா த்ருஷ்ணா நிபட ஸதாவேம் |
ரிபு மூரக² மொஹி அதி த³ர பாவைம் || 36 ||

ஶத்ரு நாஶ கீஜை மஹாரானீ |
ஸுமிரௌம் இகசித தும்ஹேம் ப⁴வானீ || 37 ||

கரோ க்ருபா ஹே மாது த³யாலா |
ருத்³தி⁴-ஸித்³தி⁴ தே³ கரஹு நிஹாலா | 38 ||

ஜப³ லகி³ ஜியூம்ˮ த³யா ப²ல பாவூம்ˮ |
தும்ஹரோ யஶ மைம் ஸதா³ ஸுனாவூம்ˮ || 39 ||

து³ர்கா³ சாலீஸா ஜோ கா³வை |
ஸப³ ஸுக² போ⁴க³ பரமபத³ பாவை || 40 ||

தே³வீதா³ஸ ஶரண நிஜ ஜானீ |
கரஹு க்ருபா ஜக³த³ம்ப³ ப⁴வானீ ||

Durga Chalisa In Gujarati

નમો નમો દુર્ગે સુખ કરની। નમો નમો દુર્ગે દુઃખ હરની॥૧॥
નિરંકાર હૈ જ્યોતિ તુમ્હારી। તિહૂઁ લોક ફૈલી ઉજિયારી॥૨॥
શશિ લલાટ મુખ મહાવિશાલા। નેત્ર લાલ ભૃકુટિ વિકરાલા॥૩॥
રૂપ માતુ કો અધિક સુહાવે। દરશ કરત જન અતિ સુખ પાવે॥૪॥
તુમ સંસાર શક્તિ લૈ કીના। પાલન હેતુ અન્ન ધન દીના॥૫॥
અન્નપૂર્ણા હુઈ જગ પાલા। તુમ હી આદિ સુન્દરી બાલા॥૬॥
પ્રલયકાલ સબ નાશન હારી। તુમ ગૌરી શિવશંકર પ્યારી॥૭॥
શિવ યોગી તુમ્હરે ગુણ ગાવેં। બ્રહ્મા વિષ્ણુ તુમ્હેં નિત ધ્યાવેં॥૮॥
રૂપ સરસ્વતી કો તુમ ધારા। દે સુબુદ્ધિ ઋષિ મુનિન ઉબારા॥૯॥
ધરયો રૂપ નરસિંહ કો અમ્બા। પરગટ ભઈ ફાડ़કર ખમ્બા॥૧૦॥
રક્ષા કરિ પ્રહ્લાદ બચાયો। હિરણ્યાક્ષ કો સ્વર્ગ પઠાયો॥૧૧॥
લક્ષ્મી રૂપ ધરો જગ માહીં। શ્રી નારાયણ અંગ સમાહીં॥૧૨॥
ક્ષીરસિન્ધુ મેં કરત વિલાસા। દયાસિન્ધુ દીજૈ મન આસા॥૧૩॥
હિંગલાજ મેં તુમ્હીં ભવાની। મહિમા અમિત ન જાત બખાની॥૧૪॥
માતંગી અરુ ધૂમાવતિ માતા। ભુવનેશ્વરી બગલા સુખ દાતા॥૧૫॥
શ્રી ભૈરવ તારા જગ તારિણી। છિન્ન ભાલ ભવ દુઃખ નિવારિણી॥૧૬॥
કેહરિ વાહન સોહ ભવાની। લાંગુર વીર ચલત અગવાની॥૧૭॥
કર મેં ખપ્પર ખડ્ગ વિરાજૈ। જાકો દેખ કાલ ડર ભાજૈ॥૧૮॥
સોહૈ અસ્ત્ર ઔર ત્રિશૂલા। જાતે ઉઠત શત્રુ હિય શૂલા॥૧૯
નગરકોટ મેં તુમ્હીં વિરાજત। તિહુઁલોક મેં ડંકા બાજત॥૨૦॥
શુમ્ભ નિશુમ્ભ દાનવ તુમ મારે। રક્તબીજ શંખન સંહારે॥૨૧॥
મહિષાસુર નૃપ અતિ અભિમાની। જેહિ અઘ ભાર મહી અકુલાની॥૨૨॥
રૂપ કરાલ કાલિકા ધારા। સેન સહિત તુમ તિહિ સંહારા॥૨૩॥
પરી ગાઢ़ સન્તન પર જબ જબ। ભઈ સહાય માતુ તુમ તબ તબ॥૨૪
અમરપુરી અરુ બાસવ લોકા। તબ મહિમા સબ રહેં અશોકા॥૨૫॥
જ્વાલા મેં હૈ જ્યોતિ તુમ્હારી। તુમ્હેં સદા પૂજેં નર-નારી॥૨૬॥
પ્રેમ ભક્તિ સે જો યશ ગાવેં। દુઃખ દારિદ્ર નિકટ નહિં આવેં॥૨૭॥
ધ્યાવે તુમ્હેં જો નર મન લાઈ। જન્મ-મરણ તાકૌ છુટિ જાઈ॥૨૮॥
જોગી સુર મુનિ કહત પુકારી।યોગ ન હો બિન શક્તિ તુમ્હારી॥૨૯॥
શંકર આચારજ તપ કીનો। કામ અરુ ક્રોધ જીતિ સબ લીનો॥૩૦॥
નિશિદિન ધ્યાન ધરો શંકર કો। કાહુ કાલ નહિં સુમિરો તુમકો॥૩૧॥
શક્તિ રૂપ કા મરમ ન પાયો। શક્તિ ગઈ તબ મન પછિતાયો॥૩૨॥
શરણાગત હુઈ કીર્તિ બખાની। જય જય જય જગદમ્બ ભવાની॥૩૩॥
ભઈ પ્રસન્ન આદિ જગદમ્બા। દઈ શક્તિ નહિં કીન વિલમ્બા॥૩૪॥
મોકો માતુ કષ્ટ અતિ ઘેરો। તુમ બિન કૌન હરૈ દુઃખ મેરો॥૩૫॥
આશા તૃષ્ણા નિપટ સતાવેં। મોહ મદાદિક સબ બિનશાવેં॥૩૬॥
શત્રુ નાશ કીજૈ મહારાની। સુમિરૌં ઇકચિત તુમ્હેં ભવાની॥૩૭
કરો કૃપા હે માતુ દયાલા। ઋદ્ધિ-સિદ્ધિ દૈ કરહુ નિહાલા।૩૮॥
જબ લગિ જિઊઁ દયા ફલ પાઊઁ। તુમ્હરો યશ મૈં સદા સુનાઊઁ॥૩૯॥
શ્રી દુર્ગા ચાલીસા જો કોઈ ગાવૈ। સબ સુખ ભોગ પરમપદ પાવૈ॥૪૦॥

દેવીદાસ શરણ નિજ જાની। કરહુ કૃપા જગદમ્બ ભવાની॥

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *